ৰামধেনু ওলাইছে

ৰামধেনু ওলাইছে   অবিনাশ দাস নলবাৰী   পলমকৈ হলেও পূৱে ৰামধেনু ওলাইছে কৃষকে ভাবিছে এইবাৰ খেতি ভাল হব ৷   ‘তিনি শাঁওনে পাণ এক আহিনে ধান’ ৰ  আশাৰে নুমলীয়াকৈ  হলেও কঠিয়া ৰুইছে ৷   ৰোৱনীৰ মূৰৰ ওপৰেৰে বেলিটিয়ে ভটিয়াইছে আঙুলীৰ ফাকেৰে ৰ’দালীয়ে আশা দিছে৷ সেউজীয়া পথাৰে শৰৎ নমাইছে কহুৱাৰ তালে তালে  বগলীয়ে আকাশত উৰিছে সোনগুটিয়ে হাটবাউলি মাতিব বুলি কৃষকে ভাবিছে  সেয়ে পলমকৈ হলেও পূৱে ৰামধেনু ওলাইছে ৷

Read More

क्षणिकाएं

*क्षणिकाएं*   (1)   हें गौरी तनय नमन करूँ तूम्हें  तेरी पग पखारूँ  बुद्धि दे सिद्धि दे कृपा करो विघ्नहर्ता ।   (2)   हे लम्बोदर ! सदा बनी रहे  दीन दुखिओ पर  कृपा तुम्हारी , रिक्त है मेरे द्वार भी  विनती सुनो मेरी पूजा अर्चना से ।   (3) हे गणेश  मैं तुम्हे बुलाऊँ  करो तुम विराज ,  पूर्ण करो आज  मेरी अभिलाषा  जो है तुम पर आस ।    वाणी बरठाकुर “विभा” तल गेरेकी , तेजपुर  शोणितपुर, असम  

Read More

क्षणिकाएं

  क्षणिकाएं   (1)   हें गौरी तनय नमन करूँ तूम्हें  तेरी पग पखारूँ  बुद्धि दे सिद्धि दे कृपा करो विघ्नहर्ता ।   (2)   हे लम्बोदर ! सदा बनी रहे  दीन दुखिओ पर  कृपा तुम्हारी , रिक्त है मेरे द्वार भी  विनती सुनो मेरी पूजा अर्चना से ।   (3) हे गणेश  मैं तुम्हे बुलाऊँ  करो तुम विराज ,  पूर्ण करो आज  मेरी अभिलाषा  जो है तुम पर आस ।    वाणी बरठाकुर “विभा” तल गेरेकी , तेजपुर  शोणितपुर, असम

Read More