सुप्रभात

Sharing is caring!

*सुप्रभात*

 

हे परम पिता परमेश्वर 

तू   है  सर्व   गुणाकर ।

दुख दर्द सब हर दो

मुझमें शक्ति भर दो ।

 

शरीर मन को जोड़ दे 

सृजन में ताकत भर दे ।

पहले जैसे स्वस्थ बनूँ 

तेरे ही गुणगान में रहूँ ।

 

माता-पिता और गुरु 

सबके शरण में जाऊँ ।

हर कार्य मैं कर सकूँ 

प्रभु तुमसे कृपा माँगू ।  

 

तेरे ही शरण मेंं आऊँ 

तरे ही महिमा मैं गाऊँ

मानव धर्म मेंं सदा रहूँ

मानव सेवा मेंं सदा रहूँ।

 

प्रभु सबका मंगल करें 

सबका दुख दूर  करें ।

दीन हीन कोई  न  रहें 

सभी सुख शांति से रहें ।

 

    वाणी बरठाकुर “विभा”

     तेजपुर, असम

Related posts

Leave a Comment